Very Sad Shayari In 2 Lines – खुशियाँ तो कब की रूठ गयी हैं काश की

खुशियाँ तो कब की रूठ गयी हैं काश की,
इस ज़िन्दगी को भी किसी की नज़र लग जाये..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *