DilSeDilKiTalk

Baatein Dil Ki Always Rock

Loading...

Waseem Barelvi Ghazal – Tumhari Raah Mein Mitti Ke Ghar Nahi Aate

तुम्हारी राह में मिटटी के घर नहीं आते
इसीलिए तुम्हे हम नज़र नहीं आते

मोहब्बतो के दिनों की यही खराबी है
ये रूठ जाएँ तो लौट कर नहीं आते

जिन्हें सलीका है तहजीब-ए-गम समझाने का
उन्ही के रोने में आंसू नज़र नहीं आते

खुशी की आँख में आंसू की भी जगह रखना
बुरे ज़माने कभी पूछ कर नहीं आते

Loading...

1 Comment

Add a Comment
  1. Mr. Waseem ji…..
    All the ghazals written by you are most most liked by me.
    And I wish ki ap hamesha aise hi likhte rahen .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...
DilSeDilKiTalk © 2015