Yaad Shayari – मेरे अहसानों का कर्ज़ तुम यूँ चुका देना

मेरे अहसानों का कर्ज़ तुम यूँ चुका देना,
कभी याद करके अकेले में मुस्कुरा देना,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *