Zindagi Shayari – झूझती रही बिखरती रही

झूझती रही ..
बिखरती रही …
टूटती रही …
कुछ इस तरह ज़िन्दगी …… निखरती रही !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *