4 Lines Shayari – मेरे दुश्मन भी, मेरे मुरीद हैं शायद


मेरे दुश्मन भी, मेरे मुरीद हैं शायद,
वक़्त बेवक्त मेरा नाम लिया करते हैं ,
मेरी गली से गुज़रते हैं छुपा के खंजर,
रु-ब-रु होने पर सलाम किया करते हैं !

Leave a Reply