Dard Bhari Hindi Shayari – ऐ ग़म-ए-ज़िंदगी न हो नाराज़


ऐ ग़म-ए-ज़िंदगी न हो नाराज़,
मुझको आदत है मुस्कुराने की..

Leave a Reply