Hindi Suvichar – कर लेता हूँ बर्दाश्त हर दर्द इसी आस के साथ


कर लेता हूँ बर्दाश्त हर दर्द इसी आस के साथ..
की खुदा नूर भी बरसाता है … आज़माइशों के बाद

Leave a Reply