Jagjit Singh Ghazal – काँटों से दामन उलझाना मेरी आदत है


काँटों से दामन उलझाना मेरी आदत है
दिल मे पराया दर्द बसाना मेरी आदत है

मेरा गला गर कट जाए तो तुझ पर क्या इल्ज़ाम
हर क़ातिल को गले लगाना मेरी आदत है

जिन को दुनिया ने ठुकराया जिन से हैं सब दूर
ऐसे लोगों को अपनाना मेरी आदत है

सब की बातें सुन लेता हूँ मैं चुपचाप मगर
अपने दिल की करते जाना मेरी आदत है

-पयाम सईदी


इन्हे भी पढ़े….

  1. Anmol Vachan In Hindi
  2. Pyaar Mohabbat Shayari
  3. Sad Hindi Shayari
  4. Rahat Indori Ghazal Lyrics
  5. Jagjit Singh Ghazal Lyrics
  6. Ahmed Faraz Ghazal Lyrics
  7. Munawwar Rana Ghazal Lyrics
  8. Bashir Badr Ghazal Lyrics

Leave a Reply