Khamoshi Shayari – जुबाँ न भी बोले तो मुश्किल नहीं


जुबाँ न भी बोले तो मुश्किल नहीं l
फिक्र तब होती है,
जब खामोशी भी बोलना छोड़ दें l

Leave a Reply