Khwab Shayari – कब तलक ख़ुद को समेटा जाये


कब तलक ख़ुद को समेटा जाये,
चल कोई ख़्वाब निचोड़ा जाये…

Leave a Reply