Khwab Shayari – सुबह टुकड़े मिले थे कुछ तकिये के नीचे


सुबह टुकड़े मिले थे कुछ तकिये के नीचे…..
ख्वाब थे जो रात को टूटे थे…..

Leave a Reply