Sad Shayari In Two Lines – चाहा था मुक्कमल हो मेरे गम की कहानी


चाहा था मुक्कमल हो मेरे गम की कहानी,
मैं लिख ना सका कुछ भी, तेरे नाम से आगे !!

Leave a Reply