Sad Shayari In Two Lines – सोचते हैं जान अपनी उसे मुफ्त ही दे दें


सोचते हैं जान अपनी उसे मुफ्त ही दे दें ,
इतने मासूम खरीदार से क्या लेना देना ।

Leave a Reply